DR ASHISH THAKKAR's 14 Galatiya Jo Rog Ko Thik Nahi Hone Deti (Hindi) (Hindi PDF

By DR ASHISH THAKKAR

जब भी हम बीमार होते है तो दवाई लेकर उसे ठीक करते है। जब हमें समझमें आता है कि इस दवाई से रोग सिर्फ कुछ समय के लिए ही ठीक होते है तो हम डॉक्टर और दवाई बदलते रहते है। लेकिन समस्या जड़ से ठीक होने के बजाय बढती ही जाती है।

जब तक हम रोगों को पैदा करने वाले कारणों को खोजकर उन्हें दूर नहीं करते तब तक हम रोग मुक्त और दवाई मुक्त नहीं हो सकते।
-------------------------------
घर में चूहा मरने की वजह से बदबू आ रही है। हम परफ्यूम लाकर छिडकते है। इससे कुछ समय के लिए बदबू कम जरुर होती है। लेकिन जैसे ही परफ्यूम का असर चला जायेगा फिर से अधिक बदबू आने लगेगी।

अब आप क्या करोंगे? क्या आप और अधिक पावरफुल परफ्यूम खरीदोगे? या आप उस चूहे को ढूंढकर बाहर फेकोगे?

ठीक उसी प्रकार किसी एक रोग या रोग के लक्षणों को दबा देने से आरोग्य नहीं प्राप्त होगा। रोगों को हमेशा के लिए और जड़ से नष्ट करना चाहते हो तो रोग पैदा करने वाले कारणों को नष्ट करना होगा।
-------------------------------
लगभग ninety eight % जीवनशैली संबंधित रोगों के पैदा करने वाले कारण तीन स्तरों पर होते है। यह तीन स्तर कुछ इस प्रकार से है:
1.आहार पद्धति (Diet),
2.जीवन पद्धति (Living equipment) और
3.मन (Mind)
जब इन तीन स्तरों में से किसी एक या एक से ज्यादा स्तर पर गलतियां होती है तो रोग उत्पन्न होते है और बढ़ते जाते है। अगर हम इन तीन स्तरों में से रोग पैदा करने वाली गलतीयों को ढूंढ ले तो रोगों से हमेशा के लिए मुक्ति पा सकते है।

यह वही तरीका है जिसकी सहायता से हम पिछले 18 वर्षों से खुदको और हमारे बच्चों को बिना किसी दवाई के स्वस्थ रख पायें है।

अगर आप रोग मुक्त होना चाहते हो तो आपको उन गलतियों को जानना होगा जो जो आपके रोगों को जड़ से ठीक नहीं होने देती।
इस किताब में ऐसी 14 गलतियों के बारे में जानकारी दी है जो आपकी बीमारी को जड़ से ठीक होने से रोक सकती है और अच्छे से अच्छी ट्रीटमेंट को भी असफल बना सकती है।
-------------------------------
गलती 1: उपचारक आहार कम मात्रा में खाना

उपचारक आहार यह आहार रोग मुक्ति के लिए अनिवार्य है। इसकी जगह दुनिया की कोई भी दवाई नहीं ले सकती।
हमें एक बात समझ लेनी चाहिए कि “रोगों को जड़ से ठीक करने की क्षमता सिर्फ उपचारक आहार में है।”

इस लिए अगर हमें रोग मुक्त होना है या रोग मुक्त रहना है तो उपचारक आहार को सही मात्रा में लेना जरुरी है। इसे पृथ्वी की सबसे श्रेष्ट औषधि माना गया है। यह आहार हमारी प्रतिकार शक्ति को चमत्कारिक रूप से बढ़ाते है।

Show description

Read Online or Download 14 Galatiya Jo Rog Ko Thik Nahi Hone Deti (Hindi) (Hindi Edition) PDF

Best books_1 books

Get WORLD TOP MODEL Top Photographer Album 2018 WUM Auction top PDF

International best version most sensible Photographer Album 2018 WUM public sale best artist cosmo artwork ヨーロッパ 写真集 世界旅行European attractiveness photograph albumヨーロッパビューティ写真集http://world-union-market. com/http://world-union-market. com/register. phpShion. ok [ The View you spot on the final ] unique Anisia A70,000,000. 00 USDhttp://world-union-market.

In rotta verso Buona Speranza (Italian Edition) by PDF

Un giorno Michèle e Didier Trousseau, una coppia di francesi, lasciano il loro lavoro e l. a. sicurezza di una casa in step with vivere in modo diverso con le loro figlie. .. Nel 1982, una spedizione transafricana li conduce, a bordo di un minibus, fino al Capo di Buona Speranza, accompagnati dalle due figlie maggiori.

Read e-book online DMADOV: Do It Yourself (Do It Yourself Process Improvements PDF

Function of scripting this publication: With companies worldwide targeting providing price to their patron, the target of method advancements and price additions have flown right down to each person worker operating for the association. accordingly, not just the organization’s luck, but additionally the individual’s good fortune by way of development at the present time seriously rely on the price they convey and the advancements they enforce within the tactics and items for the buyer.

Read e-book online Anne Frank: A Biography PDF

Within the month earlier than Anne’s 11th birthday, Germany invaded the Netherlands, which was once formerly impartial in all issues political, and the doubtless unconquerable German military subdued it in the process per week. the area used to be altering for the more serious, and Anne was once coming to grips with the conclusion that she used to be various due to her family’s faith.

Extra info for 14 Galatiya Jo Rog Ko Thik Nahi Hone Deti (Hindi) (Hindi Edition)

Sample text

Download PDF sample

14 Galatiya Jo Rog Ko Thik Nahi Hone Deti (Hindi) (Hindi Edition) by DR ASHISH THAKKAR


by Donald
4.0

Rated 4.13 of 5 – based on 47 votes